saturday, august 26, 2017
Follow us on
LATEST HEADLINES
भारत ने अंग्रेजों को 4-0 से रौंदा, नायर 'मैन ऑफ द मैच'वित्तमंत्री ने किया छोटे दुकानदारों के लिए नई स्कीम का ऐलानट्रंप को रिझाने की कोशिश में मोदी! अमेरिकी एनएसए से मिले अजित डोभाल पाक छोड़ने में पूर्व सेना प्रमुख शरीफ ने की मदद: मुशर्रफपीएम के कपड़ों की तरह नियम बदल रहा RBI: राहुल गांधीलोकलुभावन रेल बजट के दिन गए, मुफ्त नहीं मिलेगी रेल सेवाएंनोटबंदी के बीच चंडीगढ़ में भाजपा को बड़ी कामयाबी, 26 में से 21 सीटें जीतीं दोबारा चलन में आएंगे छापे में पकड़े गए 100 करोड़ के नए नोट Flexi Fare: करंट रिजर्वेशन कराने वालों को मिलेगी 10 फीसदी छूट सायरस के जाने से टाटा को हुआ 10 बिलियन डॉलर का नुकसान
कुरुक्षेत्र(राकेश शर्मा)

बाबाओं का बढ़ता साम्राज्य ओर बौनी पड़ती सरकारे.--क्या बाबाओं को नेताओं का समर्थन मिलता है या फिर कुछ ओर...

टीम डिजिटल/ ( दैनिक उजाला, लुधियाना) august 26, 2017 05:30 pm
Reported By : राकेश शर्मा

कुरुक्षेत्र 26 अगस्त।(राकेश शर्मा)हरियाणा प्रदेश एक ऐसा प्रदेश जिसका नाम सुनते ही हमारे आखों के सामने खेतों की हरियाली ओर भाईचारे की भावना से काम करने वालों लोगो की तस्वीर बन जाती थी लेकिन पिछले कुछ सालों से ना जाने किसकी नजर लग लगी हमारे हरियाणा को कि वो बात बात सब कुछ तबाहा करने के लिए तैयार रहता है वो मिटा देना चाहता है हरियाणा को जी हां पिछले कुछ सालों में जो कुछ भी हरियाणा प्रदेश मेें हुआ वह हर एक को शर्मशार करने वाला है आज हरियाणा कब धर्म जाति के नाम पर सुलझ जाये कोई नही जानता अभी जाट आन्दोलन की आग,कभी धर्म के नाम पर ,तो कभी जात पात के नाम पर ये हाल हो गये है खुशहाल हरियाणा के जिसका नाम बढ़े गर्व से लिया जाता था आज प्रदेश में कब छोटी घटना बढ़ा रूप लेकर शहर के शहर तबाह करदे कोई नही जानता ये सच्चाई है हमारे हरियाणा की रियाणा में पहले भी जाट आन्दोलन के दौरान खुन के आसुं बहा चूका है इस आन्दोलन में ना जाने कितनी दूकाने कितने मकान कितनें लोगो की जान गयी ना जाने कितने करोड़ो की सम्पति का नुकशान हुआ केाई नही जानता ये हाल जब आखों के सामने आता है तो वह खौफनाक मंजर देखकर रूका नही जाता। अभी हाल के कुछ सालों में हरियाणा कई बार आग में झुलसा ओर कई बार अपनों की लासों से गुजर कर आगे की ओर बढ़ा अभी रोहतक की आग बुझी भी नही थी कि पंचकूला मेंं 25 अगस्त को जो कुछ हुआ वह हमे शर्मशार करता है पेशी पर आये हुए बाबा को दोषी ठहराने के तुंरत बाद बाबा के समर्थकों ने पंचकूला को आग के हवाले कर दिया ओर फिर लोगो को याद आने लगी रोहतक कांड की फिर दोहराया गया ऐसा काडं जो पहले भी हमारे हरियाणा के लोग भुगत चूके है आखिर ऐसा क्यों हुआ? आखिर क्यों वोट रूपी आर्शीवाद पाने के लिए हमारे नेता इन बाबाओं के आगे नतमस्तक हो जाते है क्या हमारेी जान ओर माल की रक्षा करने वाली सरकारें राजनीति के चक्कर में हमारी जान की बलि देते रहेगे आज हरियाणा कब सुलझ जाये आज हरियाणा में कब कोई किसी के खुन का प्यासा हो जाये कोई नही जानता ऐसे हालातो को देखकर हमें अपने भविष्य अंधकार की ओर जाता दिखाई दे रहा है। क्या बाबाओं के ढ़ेरो को नेताओं का समर्थन मिलता है या फिर कुछ ओर....हरियाणा में बढ़ते बाबाओं का साम्राज्या किसके दम पर बढ़ता है किसके दम पर जुड़ती लाखों की संगत कहां से आता है इतना पैसा ये जानकर भी कोई नही जानता सरकार भी कोई अप्रिया घटना होने के बाद जागती है ओर जैसे ही मामला शांत होता है तो सो जाती है सरकार किसी भी दल की हो आम जन की सुरक्षा की पहल इन्ही सरकारों की है लेकिन ये अपनी राजनीति के लाभ से नेताओं केा कुछ दिखाई नही देता आखिर कब तक बाबाओं से वोट रूपी आर्शीवाद पाने के लिए नेता इनके दरबार में हाजिरी भरते रहेगे क्या अपनी राजनीति चमकाने के चक्कर मेें हमारी ओर आपकी जान की बलि देते रहेगे बहुत हो गया अब तो होश में आइये ओर जितने भी प्रदेश में ऐसे बाबा है उन पर सख्त से सख्त कानून बनायें ओर दे दे उन्हे सजा ताकि हमारे आने वाला ये ना कहे हम उसी प्रदेश में रहते है जहां ना जाने कब किस वक्त आग लग जाये ओर सब कुछ राख हो जाये..